मर्त्य देश के निवासी

हम जिस देश में रहते है
वो मर्त्य हो चुका  है
सब जिन्दा लाश की तरह जी रहे है
अपराध बढ़ता जा रहा  है
कोई बचाने  वाला नहीं है
हर कोई ढूँढ रहा  है
कोई बचने आ जाये
पर मरे हुए देश में कौन  आएगा
हिंसा  का है बोलबाला
राजा ही नहीं अच्छी  है
तो प्रजा का क्या होगा
भगवान का नाम लेने वाले ही
माँ बहन की इज्जत लूट रहे है
क्या होगा ऐसे देश का
रखवाला ही लूट रहा  है
कौन बचेयेगा
हम कैसे देश के निवासी है
ये सोचना होगा
 

टिप्पणियाँ

Darshan jangra ने कहा…
बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बुधवार -4/09/2013 को
मर्त्य देश के निवासी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः12 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





आपके भाव बिलकुल सही है और चारों और घनघोर अँधेरा ही दिखाई दे रहा है !
ajay yadav ने कहा…
वर्तमान परिदृश्य पर बेहतरीन रचना |
नई पोस्ट-“जिम्मेदारियाँ..................... हैं ! तेरी मेहरबानियाँ....."
निर्दोष हम भी नहीं ...
बिलकुल सोचना होगा ... ओर अब नहीं सोचा तो शायद देर न हो जाए ...
सार्थक प्रस्तुति.
http://dehatrkj.blogspot.com

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शराब जरुरी है क्या

प्यारा हिन्दुस्तान