शिव की,महिमा

शिव  जी बहुत भोले है,
 भोले भंडारी कहलाते है
उनकी  महिमा है निराली
 सबके दुःख  हरते है
लोगो को सुख देकर
बाकी  विष वो पीते है
सब  तेरे दर्शन को तरसे
सब तुझसे मिलने को आये
कहा है भोले दर्शन दो
देश में हो रहा अत्याचार,
मिटा दो अंधकार
क्यों बेबस है जनता
क्यों नहीं पीते   विष  प्याला
विष है धन,  जिसने छीना
अमन चैन
हर कोई एक दुसरे का प्यासा
कहा गया वो भाईचारा
शिव तेरे इस संसार में
बहुत हो गए रावण अब
लो फिर से अवतार तुम
हो सके फिर भाईचारा
तुम ही मिटा सकते हो
 अँधियारा
भोले तुम हो कहा 

टिप्पणियाँ

Rajendra kumar ने कहा…
आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (28.02.2014) को " शिवरात्रि दोहावली ( चर्चा -1537 )" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें, वहाँ आपका स्वागत है। महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ।
Himkar Shyam ने कहा…
भक्ति रस से सराबोर रचना ...जो सच्चे मन से शिव की आराधना करता है उसकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है...महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ...
बहुत सुन्दर गीत प्रार्थना .शिवरात्रि की शुभकामनाएं !
New post तुम कौन हो ?
new post उम्मीदवार का चयन
महाशिवरात्रि की शुभकामनायें .....

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जिंदगी से प्यार

चाँद की चमक