रविवार, 23 फ़रवरी 2014

मुझे जाने दो

कोई पुकार रहा  है
मुझे जाने दो
पर कोई जाने नहीं देता
कहा जाने को है बेक़रार
घर में सभी उसका कर रहे है इंतजार
पर वो नहीं आता
सभी को लगा चला तो नहीं गया
आती है आवाज़
मुझे जाने दो
क्यों तड़प रहा है वो
किसका है इंतजार उसे
आता नहीं समझ
किसी ने पूछा उससे
किसका कर रहे हो इंतज़ार
कहा है जाना तुम्हे
आवाज़ आती है मुझे जाने  दो
मत रोको मुझे
इस जहाँ से मेरा मन भर गया
इस जहाँ से जाना है,
उस दुनिया में
जहाँ पर शरीर नहीं जाता है,
वो दुनिया इस दुनिया से बढ़िया है
आवाज़ आती है तुम्हे कैसे पता
कि वो दुनिया हसीन  है
वो होता है परेशान
कहता है मुझे जाने  दो
एक आती है आवाज़
 तेरे बाद  क्या होगा तेरे माँ -पिता का
आती है रोने कि आवाज़
इस दुनिया में कोई किसी का नहीं
रिश्ते नाते सब यही रह जाते है
यह दुनिया मुझे रास नहीं आयी,
मुझे जाने दो , मुझे जाने दो
इस दुनिया से मुझे जाने  दो   

6 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (25-02-2014) को "मुझे जाने दो" (चर्चा मंच-1534) पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

wah bahut khoob garima ji

राजेंद्र कुमार ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार।

कालीपद प्रसाद ने कहा…

मुझे जाने दो ....दुनिया मुझे रास नहीं आया ....पर क्यों ....?:-)
New post चुनाव चक्रम !
New post शब्द और ईश्वर !!!

Digamber Naswa ने कहा…

जाना आसान होता है दुनिया से .. पर जो है उसे निभाना ... ताप करना जीवन भर .. मुश्किल होता है ... निराशा को आशा में बदलना ही जीवन है ...

anil uphar ने कहा…

गरिमा जी अदभुत लेखन के लिये बधाई ।