शुक्रवार, 14 जून 2013

शादी और मौत में समानता

शादी का ख्याब हर कोई  सजाता है,
और चाहता है बंध जाये ऐसे बंधन में
जो टूटे से भी न टूटे,
और मौत भी एक ऐसा बंधन है
जो बंधन अटूट होता है,
एक दिन सबकी खुशियों है लिए
जाना  होता है पराये घर
और जाना होता है सबको
दुखी करके भगवन के  पास
क्या समानता होती है
दुल्हन सजती है,
घर सजता है
और जब मौत होती है
तो भी सजाया जाता है
दुलहन  को उसके दुसरे घर
भेज  दिया जाता है,
और अर्थी को भी सजा कर 
भेज दिया जाता है उसके दुसरे घर
शादी में भी आसू बहते है
और मरने पर भी
कितनी समनाता है
पर एक जगह जिन्दगी शरू
होती है,
और एक जगह खत्म
सब चले जाते है आसू बहाकर
और रह जाती है बस यादे

 

4 टिप्‍पणियां:

राजेंद्र कुमार ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन और सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुती ,धन्यबाद।

अरुन शर्मा 'अनन्त' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (16-06-2013) के चर्चा मंच 1277 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत अच्छा भावपूर्ण रचना
latest post पिता
LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

Bilkul sahmat hoon Garima ji ....bahut hi sundar aur bhavpoorn prastuti ke liye aabhar