कलाम को सलाम

कलाम अपने कर्मो से पहचाने गए
उनकी क्या मिसाल
ज्ञान और विज्ञानं कके  थे मिसाल
सादा  जीवन उनकी  पहचान
बच्चो को सीखते रहे किताबो से
करना प्यार,
 किताब ही सच्ची साथी
उनका हर दम कहना  होता
भारत को कैसे बनाये महान
हर दम ये सोचा करते
बच्चो से कहते सपने देखो  ऊँचे
 जिन को तुम पूरा कर पाओ
दिल दर्द से भरा हुआ है,
 लिखू लिए शब्द कम पड़े रहे है
उनको मेरा शत शत प्रणाम

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शराब जरुरी है क्या

प्यारा हिन्दुस्तान

सावन का सुहाना मौसम