my new poem

iSlk gh Hkxoku
dfy;qx dk Hkxoku gS iSlk
gj dksbZ pkg jgk gS iSlk
pkgs gks vehj ;k gks xjhc
;k gks lar egkRek
Lkcdh igpku gS iSlk
gj dksbZ Hkkx jgk gS pdkpkS/k esa
vks<dj eq[kkSVk
gj dksbZ Bx jgk gS nwljs dks
vUnj Hkys gh [kks[kyk
ped /ked esa lc fcdrk gS
HkkbZ dk HkkbZ nq’eu cuk
csVs us cki dks ekjk
vjs HkkbZ! ;gh rks dfy;qx gS
tgkW iSlk gh lc dqN gS
vxj gks tkrk gS fdlh dk eMZj
rks NwV tkrk gS
nsdj iSlk odhy dks
D;ks u iwts ge ,sls dfy;qxh Hkxoku dks
gks jgh t; t;dkj bl iSls :ih Hkxoku dh



टिप्पणियाँ

बहुत सही लिखा है आपने। आज के दौर मे पैसा ही सब कुछ है लोग इज्ज़त से ज़्यादा पैसे को महत्व देते हैं।

सादर

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शराब जरुरी है क्या

प्यारा हिन्दुस्तान