सोमवार, 28 नवंबर 2016

जीवन धूप और छाव

कभी धूप तो  कभी छाव है जिंदगी
मीठे खट्टे अनुभव का नाम है जिंदगी
कुदरत की नियामत है जिंदगी
अगर ये  जिंदगी न होती तो क्या होता
नए नए अनुभव देती है जिंदगी
हर नए पाठ पढ़ाती है जिंदगी
जिसे कोई न  समझ पाए वो सबक है जिंदगी
अपने कर्मो के आधार पर चलती है जिंदगी
कोई न जान सके ऐसी पहेली है जिंदगी
किसी के लिए बहुत प्यारी है जिंदगी
किसी के लिए रो रो कर गुजरती है जिन्दगो
हर हाल में खुश रहे ऐसी है जिंदगी
माँ से मिले उपहार है जिंदगी
हम ऐसे ही न बिताए जिंदगी
कुछ कर  दिखाए हम जिंदगी को
दूसरो से हटकर बिताये जिंदगी
जिंदगी भी कहे क्या है जिंदगी
- गरिमा 

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा आज बुधवार (30-11-2016) के चर्चा मंच "कवि लिखने से डरता हूँ" (चर्चा अंक-2542) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'