बुधवार, 25 दिसंबर 2013

मानवता खो गयी कही

आज मानवता खो गयी कही
हर कोई लूटने में है लगा
कैसे हम  आगे बढे
इसी सोच में है डूबा,
लूट रही है अस्मिता नारी की
कहा रह गयी मानवता
किसी  को हो दुःख
तो लोग बना देते है मजाक
कहा है संवेदना
बड़े घरो में जो रहते है
वो और भी दुखी है
हर कोई उसका उठाता  है
फायदा  
 कहा है मानवता
 हर तरफ   है अँधियारा
कौन दीप जलाये
और जो खो रही मानवता
उसे ढूढ कर लाये

5 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (26-12-13) को चर्चा - 1473 ( वाह रे हिन्दुस्तानियों ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : रंग और हमारी मानसिकता

Annapurna Bajpai ने कहा…

सुन्दर मर्म स्पर्शी रचना , बधाई ।

anil uphar ने कहा…

आपकी रचना धर्मिता को नमन ।आप बेहद खूब सूरत लिखती है । बधाई

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत ही शानदार प्रस्तुति। मेरे ने पोस्ट सपनों की भी उम्र होती है DREAMS ALSO HAVE LIFE. पर आपका इंतजार रहेगा।