बुधवार, 6 नवंबर 2013

अँधेरी रात में दिया कौन जलाये

अँधेरी रात है कौन दिया जलाये
कोई प्रकाश  की  किरन नहीं
कौन जग में दिया जलाये
कल्पना के बीज बो दिए
पर उजाले में वो दिवास्वप्न  लगता है,
है बेरोजगारी  चारो तरफ
मन है नोजवानो के अँधियारा
अँधेरी रात है कौन दिया जलाये
भटकाव का अँधियारा है
प्रजा में है अँधियारा
कोई राजा नहीं है जो दीप   जलाये
 और अपने राज्य में अँधेरा मिटाये
 हर तरफ अँधेरा है
ऐसे में  सब मिल दीप जलाये
अपने चारो तरफ का अँधेरा मिटाये
अँधेरा बेरोजगारी का, भ्रष्टाचार का
जातिवाद  का
और अपने देश को जगमगाए 

4 टिप्‍पणियां:

sushma 'आहुति' ने कहा…

खुबसूरत प्रस्तुती....

राजेंद्र कुमार ने कहा…

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (08-11-2013) को "चर्चा मंचः अंक -1423" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : उर्जा के वैकल्पिक स्रोत : कितने कारगर
नई पोस्ट : कुछ भी पास नहीं है

anil uphar ने कहा…

गरिमा जी आपकी हर रचना लाजवाफ है ।बधाई