बुधवार, 21 दिसंबर 2011

नीद आती है
हम सो जाते है
खो जाते है
प्यारे से खाबो में
खाब जो कभी सच  नहीं होते,
या होते है
हम कुछ कह नहीं सकते
नीद आने के बाद
मिलाता है सुकून
भूल जाते है हम
सरे अपने गम
एक नीद और होती है
जिसमे शरीर सिथिल हो जाता है
और atma एक
शरीर छोड़ दूसरे में प्रवेश कर जाती है
वो शरीर थक जाता है
इतना की कभी उठाना नहीं chaata
नीद और सुकून के साथ
होता है बहुत  pyara