रविवार, 2 अक्तूबर 2016

गाँधी व शास्त्री को नमन

गाँधी व शास्त्री तुम कहा गए
आज आपकी जरुरत फिर भारत माँ  को है
हर तरफ अराजकता का  बोलबाला  है ,
आतंकबाद  का बोलबाला है
न शांति है न चैन है माँ के आँचल में
भारत माँ  ढूंढ रही अपने सपूतो को
गाँधी व शाश्त्री आप फिर  आ जाओ भारत में
 आज आपका जन्मदिन है
इस दिन  भी  अमन चैन नहीं है
सब एक दूसरे के खून के प्यासे है
आओ आज फिर हम सब कसम खाये
गाँधी व शास्त्री का भारत बनाये
यही उनको जन्मदिन की सही बधाई होगी
- गरिमा

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल सोमवार (03-10-2016) के चर्चा मंच "कुछ बातें आज के हालात पर" (चर्चा अंक-2483) पर भी होगी!
महात्मा गान्धी और पं. लालबहादुर शास्त्री की जयन्ती की बधायी।
साथ ही शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति कादम्बिनी गांगुली और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।