शुक्रवार, 15 फ़रवरी 2013

नारी तुझे प्रणाम

जीवन भर  सहती सजा
यही तेरी है व्यथा
नहीं तेरे मन में  कोई   पाप
करती  तू सबको माफ़
तेरा जीवन सागर से महान,
   चलते  रहना  तेरा काम  
  घर  को  तुम स्वर्ग बनाती
रिश्तो को भी तुम  सजाती
जैसे हो दिया की बाती
पर फिर भी क्यों समझ  नहीं पाते
तेरी को क्यों अबला बताते
तो है जननी तू है महान
खुद को भुलाकर जीती है
सबके खुश  में खुश होती है
अपने दर्द छुपाती  है
फिर भी क्यों नहीं समझ पाते
नारी की महानता को
ऐसी नारी को मेरा प्रणाम 

3 टिप्‍पणियां:

Yashwant Mathur ने कहा…

बहुत ही बढ़िया


सादर

sushma 'आहुति' ने कहा…

सार्थक अभिवयक्ति......

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

ak nari ki vyatha nari se behatar kaun samajh sakta hai ....bahut hi bhavpoorn udgar ....aabhar