सोमवार, 28 नवंबर 2016

जीवन धूप और छाव

कभी धूप तो  कभी छाव है जिंदगी
मीठे खट्टे अनुभव का नाम है जिंदगी
कुदरत की नियामत है जिंदगी
अगर ये  जिंदगी न होती तो क्या होता
नए नए अनुभव देती है जिंदगी
हर नए पाठ पढ़ाती है जिंदगी
जिसे कोई न  समझ पाए वो सबक है जिंदगी
अपने कर्मो के आधार पर चलती है जिंदगी
कोई न जान सके ऐसी पहेली है जिंदगी
किसी के लिए बहुत प्यारी है जिंदगी
किसी के लिए रो रो कर गुजरती है जिन्दगो
हर हाल में खुश रहे ऐसी है जिंदगी
माँ से मिले उपहार है जिंदगी
हम ऐसे ही न बिताए जिंदगी
कुछ कर  दिखाए हम जिंदगी को
दूसरो से हटकर बिताये जिंदगी
जिंदगी भी कहे क्या है जिंदगी
- गरिमा 

गुरुवार, 24 नवंबर 2016

काला धन

आज कल एक ही चर्चा है
काला धन
क्या है ये काला धन
पैसे को कभी काला और सफ़ेद नहीं देखा है
पर सब लोग कह रहे काला धन होता है
धन का कोई रंग नहीं होता
धन तो सबके काम आता है
वो गरीब हो या अमीर
कुछ लोग ऐसे है जो धन को दबा कर रखे है
जो हमारे देश को खोखला कर रहा है
जो हुआ अच्छा हुआ
सरे गरीब और अमीर बराबर हो गए
सबसे ज्यादा तो चोट महिलायो पर लगी
उनका छुपा हुआ धन बहार आ गया
पति सारे खुश हो गए
की उनका पैसा उन्हें मिल गया
धन काला या सफ़ेद नहीं होता
नीयत काली और सफ़ेद होती है
नीयत अच्छी  हो तो सब कुछ अच्छा होता है
गरिमा