शनिवार, 28 मई 2016

चाँद की चमक

चाँद कहता है मुझसे
आदमी क्या अनोखा जीव है
उलझन खुद पैदा करता है
फिर न सोता है, और मुझसे बाते करता है
रात भर मेरी चमक में अपने को निहारता है
मेरी आगोश में आकर अपनी उलझन भूल जाता है
चाँद अपनी चांदनी के साथ हर गम भूल जाता है
चाँद पूरी रात सबको मीठी नींद सुलाता है
स्वप्न में लोग चाँद की चमक देखते है
और  देखते है हर दुःख सुख को अपने
और उन दुखो और सुखो को सुबह भूल कर
फिर चाँद का इंतज़ार करते है
की चाँद आये और हम अपने दुःख सुख
साथ बाटे और उसकी चांदनी में सब दुखो,
को भूलकर मीठी नींद  में सो जाये
और खो जाये चाँद की चमक में
गरिमा