शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016

सादर नमन

वीर जवान खड़ा हिम शिखर  पर
सीना ताने  हिम चट्टानों में
करता है वो हमारी रक्षा
सारी चुनौतियों को स्वीकार करके
हमें नाज है उन वीरो पर
जो अपनी भारत माता की रक्षा करते,
वो भारत माता के लाल
जिन्हे धरा पुकारती
ऐसे ही एक वीर है
जिनकी माँ धन्य है,
वो जिन्होंने हनुमनथप्पा को जन्म दिया
६ दिन तक लड़ते रहे मौत से
और मौत को दे दिया चकमा
पर वो नहीं लड़ पाया और आगे,
और वीरता से मौत  लगा लिया
धन्य हो हनुमनथप्पा तुम,
जो हार कर भी जीत गए
तुम्हे नमन हो
और  अश्रुपूर्ण विदाई
-गरिमा