सोमवार, 4 जनवरी 2016

सावधान पाकिस्तान

कब बधाए रोक सकी है
हम आज़ादी के परवानो को
कितनी बार   और इम्तहान लेगा
पाकिस्तान हमारी
हर बार हाथ बढ़ाया दोस्ती का
पर हर बार मिला धोखा
कितनी बार और लेगा
इम्तहान हमारा
फिर गिरेंगे फिर उठेंगे
सीना ताने हम
न झुके है न झुकेंगे
चाहे कुछ भी कर लो तुम
कितना और करोगे खून खराबा
उसका न कोई है हिसाब
अब सम्हल जाओ
वीरो ने ललकारा
सावधान हो जाओ
पाकिस्तान
वीरो ने ललकारा