शुक्रवार, 18 दिसंबर 2015

ससुराल एक इम्तहान

ससुराल एक इम्तहान है
जिससे सबको गुजरना है
हर लड़की या लड़के का ससुराल होता है,
सास  हिटलर के समान  होती है
ससुर हर घाव  पर मरहम लगाते है
ननद   तो घर की रानी होती है,
जो बहू को नौकरानी समझती है
देवर के  कहने
 वो तो पूरे घर लाडला होता है
बहू  जो आती है बड़े अरमानो से
उसे गुजरना होता है हर इम्तहानों से
अगर फेल हुई किसी इम्तहान में
तो यही  कहा जाता है
मायके में कुछ सिखाया  नहीं,
क्यों लगती है ये तोहमत
ससुराल में जितना भी कर ले बहू
उसे गुजरना होता है हर इम्तहान से
गरिमा