सोमवार, 15 जून 2015

प्यार का रंग

प्यार का रंग ऐसा है.
जिस पर चढ़ा वो प्रेममय हो गया
प्यार किसी से भी हो सकता है।
भगवान  से हो तो जीवन सफल हो जाता है,
कुछ नहीं है इस जीवन में.
अच्छे कामो को जाना जाता है
प्यार करो तो  सबसे करो,
जैसे राधा ने श्याम से किया
हर तरफ बिखेरो खुशियो का रंग
जिस रंग  सारे लोग भूल जाये
अपने गम