सोमवार, 8 जुलाई 2013

कौन है वो

कौन है वो जिसका है इंतजार
 खड़ा दरवाजे पर कौन
किसकी है आहट
दबे पाँव कोई आ रहा  है
हुई  थोड़ी  सी हलचल
आ गया  वो
ये तो कोई अजीब सा इन्सान है
किसे लेने  आया है
 एक सांस टूटी
और ले गया वो अजीब इन्सान
एक ज्योति
और छोड़ गया वो निर्जीव शरीर
किसके लिए
सिर्फ रोने के लिए
एक मलाल रहा
कुछ न कर पाए हम
इस जिन्दगी में
बेकार हो गया जीवन
व्यर्थ की बातो में
 अब  एक आस   आयेंगे
फिर से इस जहा में
कुछ के तो आसूं पूछ पाएंगे हम    

4 टिप्‍पणियां:

Naveen Mani Tripathi ने कहा…

bahut hi sundar abhivykti ....lajbab drishitikon ..sadar aabhar.

sushma 'आहुति' ने कहा…

खुबसूरत अभिवयक्ति....

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत उम्दा...बहुत बहुत बधाई...

सतीश सक्सेना ने कहा…

अच्छा लिखती हो ..
बधाई !