मंगलवार, 11 जून 2013

सावन

सावन आया बारिश लाया
तपती गर्मी से राहत  लाया
पेड़ पॊधे सब भीग गए
और हरियाली छा गयी
सब को मिली राहत गर्मी हुई गायब
सावन की बूंदों में कितना अपनापन होता है
मन नहीं रहता बस में
मिलने को  करता है,
सुंदर  सपने आते है
सावन में,
सब होते कितने खुश
सावन में होता मन इतना प्रफुलित
हर तरफ हरियाली की चादर ओढ़े
धरती ने ओढ़ी चुनरिया
हर कोई मस्त है सावन की बूंदों में
सावन की  होती बात निराली
हर कोई डूब जाना चाहता है सावन के मौसम में

2 टिप्‍पणियां:

अभिषेक पाण्डेय ने कहा…

बेहद शानदार... कविता ...

हर कोई मस्त है सावन की बूंदों में
सावन की होती बात निराली
हर कोई डूब जाना चाहता है सावन के मौसम में

उक्त पंक्तियाँ बिलकुल सजीव सी हैं।

संजय भास्‍कर ने कहा…

किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।