सोमवार, 14 मई 2012

 समय 
समय बहुत बलवान,
हर घाव भर देता है 
समय बता देता है,
की कौन सा वक़्त सही है 
समय मुझे  बताओ 
की  में कैसे किसी के 
 दुःख को कम कर दू 
समय सुनाओ उसकी कहानी 
जो दूर देश से आता था,
कैसे  सबके आसू पोछकर 
खुशिया वो विखरता था,
समय मुझ को बताओ 
की कैसे में दुनिया में खुशिया 
की रौशनी विखरा सकू 
समय तुम तो सब जानते हो,
तो कोई  गीत गुनगुना दो
जिससे अँधेरा दूर   हो  
   

1 टिप्पणी:

sushma 'आहुति' ने कहा…

बेहतरीन ..