गुरुवार, 5 अप्रैल 2012

खुशी को  ढूँढना 
खुशी को कौन पा पाया है
आज सभी दुखी है 
और नकली हंसी लगये घूम रहे है,
और बड़ा घर, पैसे, बड़ी कार 
पर  क्या खुशी  इसमें मिलती है,
ये बड़ा कठिन सवाल है 
खुशी तब मिलती है 
जब हम किसी की होठो पर 
ला सके मुस्कान 
जब आप किसी भूखे 
इन्सान को खाना खिलाये
तब   मिलती है खुशी 
पर आज की दुनिया में
कोई नहीं पोछता किसी  
के आसूं 
तो नकली खुशी से सब खुश है 
क्यों नहीं पाते सच्ची खुशी 

   

 
 

1 टिप्पणी:

sushma 'आहुति' ने कहा…

भावों से नाजुक शब्‍द...