बुधवार, 11 अप्रैल 2012

लड़की 
लड़की क्या   होती   है 
एक   मोम   की   गुडिया  
जिसने चाह खेला और ठुकरा दिया 
क्या उसका  दिल नहीं होता,
क्या उसके अरमान नहीं होते 
क्यों सभी कहते है वो उसकी मर्जी से चले 
लड़की होना क्या गुनाह है?
तभी तो सभी उसे पसंद नहीं करते 
वो जातना नहीं जानती,
वो तो बस देना जानती है 
फिर भी सभी उसे गलत 
तरीके से देखते है,
बस उसे सबकी बात माननी है 
उसके दिल का हाल कोई नहीं समझता 
क्यों क्या उसके मर्जी नहीं होती 
लोग कब समझेंगे की 
लडकियों में भी जान होती है,
और उन्हें भी जीने का हक़ है