बुधवार, 11 अप्रैल 2012

क्यों टूट रहे  है रिश्ते 
मैं की भावना हो दिल में,
तो हर रिश्ता गलत लगता है 
इसी का खामियाजा सबको मिलता है 
पर हम  लोग चूर है  
सुख खोजने में
जो है उसकी कदर नहीं 
जो नहीं है उसके लिए लड़ रहे है 
इसलिए टूट रहे रिशते 
हम किसी की कदर ही नहीं करते 
आज अहम् की भावना बहुत है 
सुख की खोज बड़े घर, बड़े कार
में जा रहा है खोजा 
सब अपने में है चूर
कोई किसी नहीं चाहता है समझना 
सब मस्त है अंधी दौड़ में
जो ये समझ ले की अहम् कुछ नहीं होता 
तब रिश्ते टूटने से बच सकते है   
 
 
     

2 टिप्‍पणियां:

sushma 'आहुति' ने कहा…

risto ko arth deti behtreen rachna.....

sushma 'आहुति' ने कहा…

risto ko arth deti behtreen rachna.....