शुक्रवार, 23 मार्च 2012

घोटाला ही घोटाला



क्या   बात   है   अपने   देश  की  ,
हर  जगह  है  gohtala  ही  घोटाला 
कभी  चारा , तो  कभी  2G
तो  कभी   कोयला  घोटाला 
नेता  अमीर  होते   जा  रहे  है ,
किसी  को  जनता  से   कोई  लेने  देना  नहीं 
सब  घर  भर  रहे  है  अपना 
न  किसी  का  डर है  इन्हें ,
पता  नहीं  कितनी  भूख  है 
सब ले  जायेंगे  अपने  साथ 
क्या  ऐसा  होता  है ?
बच्चे  उड़ाते  है  वाइन
जनता  मर  रही  है  भूखे 
पैर  किसे  hai  खबर 
29 रूपए . कमाने वाला  भी  अमीर  हो  गया 
तो  क्यों  ने  नेता   कमाए  29 हज़ार  करोड़ 

1 टिप्पणी:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत ही बढ़िया


सादर