शुक्रवार, 16 मार्च 2012

जंगल  कट गए
बंगले बन गए
हरी रंग की धरती
काली पीली हो गयी 
कट रहे है पेड़
गुम रहा है  जंगल
कैसे होगी बारिश
कौन देखेगा हरियाली 
रोज रोज बनते बंगले
रोज रोज कटते जंगल
क्या होगा प्रक्रति का
या तो होगी धूप
या होगी ठण्ड
जंगल ऐसे ही कटे
तो क्या होगा प्रक्रति का  
 
 

 
 

कोई टिप्पणी नहीं: