गुरुवार, 29 मार्च 2012

  बेटिया
बेटिया होती है कितनी प्यारी 
सबके आखो की राजदुलारी 
फिर भी लोग क्यों समझते है बोझ 
बेटे से जादा काम आती है बेटिया 
हर समय माँ, बेटी, बहन बनकर 
सबको प्यार देती है बेटिया 
क्यों नहीं समझते लोग इनका मोल 
हर सुख दुःख में ढाल बन   कर खड़ी है बेटिया 
फिर क्यों इन्हें मार देते है कोख में 
बेटी न रही तो क्या होगा इस समाज का 
बेटी तो घर की रौनक है 
ये कोई क्यों नहीं जानता?
बेटी को  घर  की लक्ष्मी  बनाओ