सोमवार, 12 मार्च 2012

फूल क्या होता है
क्या सोचा है किसी ने
जब कली का रूप लेता है
तो कितना पायरा लगता है
और जब खिल जाता है तो
उसकी सुगंध चारो और बिखर
जाती है बिखर
और चार दिन बाद वो
जाता है मुरझा
और हो जाता है
उसका अस्तित्व्य ख़तम
ऐसे ही जीवन है
मनुष्य  का   
जन्म लिया
अपनी खुसबू बिखेरा
और मिल गया पंच्त्व्य में  
कितनी समानता  है  दोनों में
तब क्यों लड़ते है हम लोग आपस में
क्यों न फूल की तरह हम बिताये जिन्दगी को
 

कोई टिप्पणी नहीं: